दीपावली पर निबंध । Essay On Diwali In Hindi । Diwali Nibandh 2021

0
7062

दीपावली पर निबंध चाहिए 100, 150, 200, 300, 500 हिंदी शब्दों में PDF । deepawali nibandh कक्षा (class 2, 3, 5) प्रस्तावना कैसे लिखे । short essay on diwali in hindi 10 lines 100, 150, 200, 300, 400, 500 words । claas 3, 5 and 8 deewali essay। deepavali ka nibandh : दीपावली (दीवाली) का त्यौहार भारत सहित पडोसी देश नेपाल में भी बहुत ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता हैं। दीपावली हिन्दू धर्म के लोगो के लिए बहुत लौकप्रिय त्योहारों में से एक हैं। इस त्यौहार के आते ही चारो तरफ खुशी का माहौल बन जाता हैं और घरोघर दीप जलते हुए दिखाई देते हैं, सभी लोग घर-घर मिठाई बांटते हैं, फटाके फोड़ते हैं और नए नए वस्त्र पहनते हैं। बता दें कि दिवाली या दीपावली का अर्थ दीपों की अवली से लिया जाता हैं, सीधे शब्दों में कहे तो इसका अर्थ “दीपों की पंक्ति” हैं। स्कूल व कालेज में दीपावली के निबंध लिखने पर कम्पटीशन (प्रतियोगिता) भी आयोजित कराई जाती हैं। यदि आप भी जानना चाहते हैं की दीवाली का निबंध कैसे लिखे तो हमारी इस पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़े।

दीपावली पर निबंध प्रस्तावना : Diwali Nibandh (Essay) Ki Prastavna Kaisi Hona Chahiye

भारत के सबसे बड़े त्यौहारों में से एक दीवाली पर्व पर जब भी निबंध लिखने की बात सामने आती हैं तो छात्रों के मन में सबसे पहले जो प्रश्न आता हैं वह प्रस्तावना को लेकर आता हैं। diwali nibandh की प्रस्तावना कैसे लिखे या तैयार करें, क्योंकि प्रस्तावना ही किसी निबंध का मूल आधार होता हैं। इसलिए किसी भी निबंध की प्रस्तावना जितनी अच्छी लिखी जाती हैं निबंध भी उतना ही अच्छा लिखा जाता है और पढने में सुन्दर व समझने योग्य होता हैं। प्रस्तावना से ही स्पष्ट हो जाता हैं कि निबंध कैसा लिखा गया है और कितने नंबर इसमें प्राप्त किये जा सकते हैं।

दीपावली पर निबंध हिंदी में । दीपावली का निबंध बताइए । Diwali Nibandh 2021

दीपावली का अर्थ क्या है, दिवाली का त्यौहार कैसा होता है और कैसे मनाया जाता हैं, दिवाली का महत्व क्या है और यह क्यों मनाते हैं,  deepawali मनाने का कारण क्या है, स्कूल व कालेज के छात्र diwali का निबंध क्यों खोजते हैं ? दिवाली पर शॉर्ट निबंध (short essay on diwali), 10-20 लाइन दीपावली निबंध, दीपावली का निबंध 100 शब्द, 150 वर्ड और 1000 words में कैसे लिखते हैं, आप इस लेख में देख सकते हैं।

दीपावली पर निबंध 10 लाइन । Hindi Diwali Nibandh In 10 Lines । Short Essay On Diwali In Hindi

  1. अयोध्या पति श्री राम चन्द्र जी की घर वापसी के अवसर पर अयोध्या वासियों ने घी के दिए जलाकर उनका स्वागत किया था। तभी से यह दिन एक पावन त्यौहार की तरह मनाया जाता हैं।
  2. दीपावली हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण त्यौहार में से एक हैं।
  3. यह त्यौहार प्रत्येक वर्ष अक्टूबर या नवम्बर माह में मनाया जाता हैं।
  4. इस दिन घरो को सजाया जाता हैं और देवी लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती हैं।
  5. DEEWALI के दिन घर-द्वार, दुकान, मंदिर, चौरह सहित प्रत्येक स्थान पर दीपक जला कर जगमग रौशनी से चारो तरफ रोशन किया जाता हैं।
  6. पटाखे, फुलझड़ी, बम आदि फोड़कर दीवाली का त्यौहार मनाया जाता हैं।
  7. इस दिन गोवर के गोवर्धन बनाकर उनकी पूजा की जाती हैं।
  8. दीवाली का सबसे प्रमुख दिन लक्ष्मी पूजा का दिन (तीसरा दिन) होता हैं।
  9. यह त्यौहार पांच दिन तक मनाया जाता हैं, पहला दिन धनतेरस, दूसरा दिन नरका चतुर्दशी या छोटी दिवाली, तीसरा दिन लक्ष्मी पूजन, चौथा दिन गोवर्धन पूजा और पांचवा दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता हैं।
  10. इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में या दिन के रूप में जाना जाता हैं।

दीपावली पर निबंध 150 शब्द : Diwali Nibandh In hindi 150 Words

भारत में दीपावली का त्यौहार बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं। इस त्यौहार को हिन्दू धर्म की परम्परा और मान्यता के अनुसार सेलीब्रेट किया जाता हैं। घरों की सफाई की जाती हैं माता लक्ष्मी का स्वागत और पूजा अर्चना की जाती हैं। घर को दीपक जलाकर प्रज्वलित किया जाता हैं। पूरा परिवार देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं और माता से सुख समृधि की कामना करते हैं व आशीर्वाद ग्रहण करते हैं। घर में भाति-भाती के पकवान बनाए जाते हैं। घर घर जाकर एक दूसरे को मिठाई बांटी जाती हैं। बता दें कि यह त्यौहार भगवान श्री रामचन्द्र जी की लंका पति रावन (रावण) पर विजय और 14 वर्ष के वनवास के बाद घर वापिस लौटने के अवसर पर मनाया गया था। तब से ही इस दिन को सम्पूर्ण भारत में एक पवित्र त्यौहार के रूप में मनाया जाता हैं। स्कूली छात्र व कालेज में अध्यन कर रहे छात्रों को दीपावली पर निबंध 150 शब्द में निबंध लिखने के लिए दिया जाता हैं।

दिवाली का निबंध 100-200 शब्द : Diwali Essay In hindi 100-200 Words

हमारे देश (भारत) में दीपावली का त्यौहार बहुत ही हर्ष उल्लास व धूम-धाम के साथ मनाया जाता हैं। जैसा कि आप जानते हैं की इस त्यौहार को हिन्दू धर्म की परम्परा और मान्यता के अनुसार सेलीब्रेट किया जाता हैं। माता लक्ष्मी के स्वागत और पूजा अर्चना के लिए घरों की सफाई की जाती हैं। पूरे देश में प्रत्येक घर को दीपक जलाकर प्रज्वलित किया जाता हैं और जहां देखो वहां चमक धमक व ख़ुशी का माहौल दिखाई देता हैं। परिवार के सभी सदस्य धन देवी माता लक्ष्मी की पूजा करते हैं और माता से सुख समृधि की कामना करते हैं व आशीर्वाद ग्रहण करते हैं। घर में भाति-भाती (तरह-तरह) के पकवान बनाए जाते हैं। घर-घर जाकर एक दूसरे को मिठाई बांटी जाती हैं।

बता दें कि deewali festival भगवान श्री रामचन्द्र जी की लंका पति रावन (रावण) पर विजय और 14 वर्ष के वनवास के बाद घर वापिस लौटने के अवसर पर मनाया गया था। तब से ही इस दिन को सम्पूर्ण भारत में एक पवित्र त्यौहार और भगवान राम की विजय श्री के रूप में मनाया जाता हैं। स्कूली छात्र व कालेज में अध्यन कर रहे छात्रों को दीपावली पर निबंध 100-200 शब्द में निबंध लिखने के लिए दिया जाता हैं। दीवाली का निबंध कैसे लिखे छात्र यहाँ से देखे सकते हैं।

दीपावली पर निबंध लिखा हुआ चाहिए 300-500 शब्दों में : Diwali nibandh In hindi 300-500 Words

दीपावली का त्यौहार मतलब खुशियों के पल। दीवाली फेस्टिवल को पूर्व देश में बहुत ही हर्ष उल्लास और मंगल कामनाओं के साथ मनाया जाता हैं। diwali festival को पांच दिन तक मनाया जाता हैं, आइए जानते हैं की पांच दिन तक दिवाली के त्यौहार पर क्या क्या किया जाता हैं। 

दीवाली त्यौहार का पहला दिन धनतेरस

दीपावली पर्व की शुरुआत धनतेरस या धन्त्ररावदाशी के दिन से होती हैं, इस दिन को महा-लक्ष्मी को पूजा जाता हैं। सभी कुछ न कुछ नयी वस्तुए खरीदते हैं और माता रानी की कृपा का पात्र बनते हैं। देवी माँ को प्रशन्न करने के लिए आरती, भक्ति गीत और मंत्र गाते हैं। माना जाता हैं कि धनतेरस के दिन किसी को धन, पैसे या सम्पति नहीं दी जाती हैं। माना जाता हैं कि ऐसा करने से घर की लक्ष्मी चली जाती हैं। हां, लेकिन कोई वस्तु खरीद कर उसका मूल्य दिया जा सकता हैं।

दीवाली फेस्टिवल (छोटी दिवाली) का दूसरा दिन

नरका चतुर्दशी या छोटी दिवाली त्यौहार का दूसरा दिन हैं। इस दिन को भगवान मुरली मनोहर श्री कृष्ण की पूजा अर्चना करने मनाया जाता हैं। कृष्ण भगवान ने इस दिन नरकासुर का वध किया था और लोगो को इस राक्षस के नरक व अत्याचार से मुक्ति दिलाई थी। इस दिन को छोटी दीवाली के नाम से भी जाना जाता हैं।

दीपावली त्यौहार का तीसरा दिन देवी लक्ष्मी पूजन

इस दिन को दीपावली के सबसे खास दिन के रूप में जाना जाता हैं। देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती हैं, फटाखे, फुलजड़ी, अनारदाने व बम फोड़कर देवी माँ का स्वागत किया जाता हैं। देवी माँ से उज्जवल भविष्य के लिए प्राथना की जाती हैं। मिठाई बांटी जाती हैं, लोगो को त्यौहार की बधाई दी जाती हैं, दीपक जलाये जाते हैं और एक दूसरे को उपहार दिए जाते हैं ।

दिवाली पर्व का चौथा दिन गोवर्धन पूजा

इस पर्व के चौथे दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना की जाती हैं क्योंकि उन्होने देवराज इन्द्र के प्रकोप से गोकल वासियों की रक्षा की थी। इसके लिए उन्होंने गोवर्धन पर्वत को अपनी एक उंगली पर उठाया था। उस दिन से गोवर्धन पूजा का प्रारंभ हुआ। इस दिन घर में गाय के गोवर से गोवर्धन देवता को बनाया जाता हैं और उनकी पूजा अर्चना की जाती हैं उनकी परक्रमा दी जाती हैं।

Diwali Festival पांचवा दिन यम द्वितिया या भाई दौज

भाई दूज या दौज का दिन भाई बहन के लिए माना जाता हैं, इस दिन बहने अपने भाइयों को यह त्यौहार मनाने के लिए आमंत्रित करती हैं। भाइयों के लिए अच्छे-अच्छे पकबान बनाए जाते हैं और उनकी तिलक लगाकर उनकी आरती भी की जाती हैं। दीपावली के इस दिन बाजार की रौनक देखने लायक होती हैं। जहाँ देखों वहाँ सजावट और सजावट की वस्तुएं देखने को मिलती हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें की स्कूल व कालेज में NIBANDH लिखने के लिए कहां जाता हैं। दीपावली पर निबंध चाहिए सर्च करते हैं और तरीका देखते हैं कि किस तरह से दीवाली का निबंध शार्ट या कम शब्दों में लिखा जा सकता हैं।

होली का निबंध पढियें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here